# लक्ष्मी जगार पर्व : बस्तर | Laxmi Jagaar Parv/Tihar : Bastar Chhattisgarh

बस्तर क्षेत्र के पारंपरिक पर्व : लक्ष्मी जगार

लक्ष्मी जगार विभिन्न संस्कारों से आबद्ध अनुष्ठानिक पर्व है, जिसमें महिलाओं की विशेष भूमिका होती है साथ ही इस पर्व के आयोजन में पुरुष भी सहभागी होते हैं। यह आयोजन प्रायः धान फसल कटने के बाद शीत ऋृतु में किसी भी समय आरंभ होकर अधिकतम 11 दिनों तक चल सकता है। किन्तु समाप्ति गुरूवार को ही होती है। जगार शब्द हिन्दी के ‘जागरण’ शब्द से प्रादुर्भूत है। देवताओं को निद्रा से जगाना और अन्न की उपज इसके मूलभूत अभिप्राय हैं। किन्तु इसके साथ ही यह आयोजन उत्सवधर्मी भी होता है। विशेष रूप से अंतिम दिन जब अनुष्ठान अपने चरम पर होता है उस दिन ‘महालखी’ (महालक्ष्मी) और नारायण जी का विवाह सांकेतिकता के साथ ही वास्तविक रूप में सम्पन्न कराया जाता है। लक्ष्मी जगार का आयोजन के विषय में लोगों का कहना है कि यह प्रायः सुख-समृद्धि की कामना से आयोजित किया जाता है।

लक्ष्मी जगार पर्व/तिहार : बस्तर | Laxmi Jagaar Parv/Tihar : Bastar Chhattisgarh | Laxmi Jagar Tihar | बस्तर के लक्ष्मी जगार पर्व

लक्ष्मी जगार का आयोजन छत्तीसगढ़ राज्य के अंतर्गत जगदलपुर, कोण्डागाँव, नारायणपुर, दंतेवाड़ा और बीजापुर में होता है। लक्ष्मी जगार लोक महाकाव्य का गायन मुख्यतः महिलाओं द्वारा किया जाता है। प्रमुख गायिका ‘पाट गुरूमाय’ कहलाती है। जिनकी एक या दो सहायिकाएँ होती है, जिन्हें ‘चेली गुरूमाय’ कहा जाता है। यहाँ यह उल्लेख अनिवार्य है कि जगार गायन में किसी जाति या समुदाय विशेष की विशेषज्ञता नहीं होती। ये गायिकाएँ किसी भी जाति या समुदाय से हो सकती है, उदाहरणार्थ जगदलपुर क्षेत्र मे धांकड़, मरार, केंवट, बैरागी, कोण्डागांव क्षेत्र में गांडा, घड़वा, बैरागी, मरार, आदि जाति की गुरूमाएँ जगार गायन करती हुई दिखाई पड़ती है। इन गुरूमाएँ को इनके गायन के लिए कोई धनराशि नहीं दी जाती, अपितु उसकी जगह आयोजक द्वारा जगार की समाप्ति पर सामर्थ्यानुसार ससम्मान भेंट दी जाती है। गुरूमाय ‘धनकुल’ नामक वाद्य बजाते हुए कथा सुनाती हैं। धनकुल वाद्य जिसे “तीजा जगार” में भी बजाया जाता है।

लक्ष्मी जगार पर्व/तिहार : बस्तर | Laxmi Jagaar Parv/Tihar : Bastar Chhattisgarh | Laxmi Jagar Tihar | बस्तर के लक्ष्मी जगार पर्व

कोण्डागाँव एवं इसके आसपास धनकुल वाद्ययंत्र के विभिन्न उपकरणों यथा धनुष को ‘धनकुल डांडी’, रस्सी को ‘झिकन डोरी’, बाँस की कमची को ‘छिरनी काड़ी’, मटका को ‘घुमरा हाँडी’, मटके के मुँह पर ढंके जाने वाले सूप को ‘ढाकन सूपा’, मटके के आसन को ‘आंयरा’ या ‘बेडंरी’ तथा मचिया को ‘माची’ कहा जाता है। घुमरा हांडी आंयरा के उपर तिरछी रखी जाती है। आंयरा धान की पुआल से बनी होती है। मटके के मुख को ढाकन सूपा से ढंक दिया जाता है। इसी ढाकन सूपा के उपर धनकुल डांडी का एक सिरा टिका होता है तथा दूसरा सिरा जमीन पर होता है। धनकुल डांडी की लंबाई लगभग 2 मीटर होती है। इसके दाहिने भाग में लगभग 1.5 मीटर पर 8 इंच की लंबाई में हल्के खाँचे बने होते हैं। गुरूमाएं दाहिने हाथ में छिरनी कड़ी से धनकुल डांडी के इस खाँचे वाले भाग में घर्षण करती है तथा बांये हाथ से झिकन डोरी को हल्के-हल्के खींचती है। घर्षण से जहाँ छर-छर-छर की ध्वनि निःसृत होती है वहीं डोरी को खीचने पर धुम्म-धुम्म की ध्वनि घुमरा हांडी से निकलती है। इस तरह ताल वाद्य और तत वाद्य का सम्मिलित संगीत इस अद्भुत लोक वाद्य से प्रादुर्भूत होता है।

Read More —> बस्तर का दशहरा पर्व : छत्तीसगढ़

The premier library of general studies, current affairs, educational news with also competitive examination related syllabus.

Related Posts

# दंतेवाड़ा की फागुन मंडई मेला | Dantewada Ki Fagun Mandai Mela

दंतेवाड़ा की फागुन मंडई : बस्तर के ऐतिहासिक मेला परंपरा में दंतेवाड़ा की फागुन मंडई का स्थान भी अत्याधिक महत्वपूर्ण है। यह प्रतिवर्ष फागुन मास में सप्तमी शुक्ल…

# नारायणपुर का मावली मेला | Mavali Mata Mela Narayanpur

नारायणपुर का मावली मेला : बस्तर क्षेत्र के प्रसिद्ध मेला-मड़ईयों में नारायणपुर का मावली मेला विख्यात है। यह मेला सांस्कृतिक रूप से समृद्ध होने के साथ ही…

# छत्तीसगढ़ की विशेष पिछड़ी जनजाति | छत्तीसगढ़ की PVTG जनजाति | CG Vishesh Pichhadi Janjati

छत्तीसगढ़ की विशेष पिछड़ी जनजाति : भारत सरकार द्वारा सन 1960-61 ई. में अनुसूचित जनजातियों में आपस में ही विकास दर की असमानता का अध्ययन करने के लिए…

# छत्तीसगढ़ में धर्मनिरपेक्ष स्थापत्य कला का विकास | Chhattisgarh Me Dharm-nirpeksha Sthaptya Kala Ka Vikas

छत्तीसगढ़ में धर्मनिरपेक्ष स्थापत्य कला का विकास सामान्यतः स्थापत्य कला को ही वास्तुकला या वास्तुशिल्प कहा जाता है। भारतीय स्थापत्य कला के दो रूप प्रमुख है –…

# छत्तीसगढ़ में धार्मिक स्थापत्य कला का विकास | छत्तीसगढ़ की स्थापत्य कला | Chhattisgarh Me Sthaptya Kala Ka Vikas

छत्तीसगढ़ में धार्मिक स्थापत्य कला का विकास स्थापत्य की दृष्टि से मंदिर-निर्माण का इतिहास भी बहुत प्राचीन है। सामान्यतः ब्राम्हण धर्म के पुनरूत्थान के साथ ही भारतवर्ष…

# रीना नृत्य : छत्तीसगढ़ | Reena Nritya : Chhattisgarh

रीना नृत्य : छत्तीसगढ़ यह एक समूह नृत्य है जिसे केवल स्त्रियाँ ही करती है। अक्सर इस नृत्य को ठण्ड के मौसम में मनोरंजन के लिए किया…

Leave a Reply

Your email address will not be published.

4 × 3 =