# लोकतन्त्र में राजनीतिक दलों की भूमिका | The role of Political Parties in Democracy

लोकतन्त्र में राजनीतिक दलों की भूमिका :

लोकतन्त्र में राजनीतिक दलों का बहुत महत्व है। राजनीतिक दल उम्मीदवारों का चयन करते हैं, उन्हें लोकप्रिय बनाने का प्रयास करते हैं तथा चुनावों में जनता का पथ प्रदर्शन करते हैं। चुनावों के बाद वे जनता और सरकार के बीच कड़ी का कार्य करते हैं।

यहाँ तक तो सब ठीक है किन्तु दलों से होने वाली हानियों को भी अनदेखा नहीं किया जा सकता। वे सम्पूर्ण देश को विरोधी शिविरों में बाँट देते हैं और कभी-कभी नागरिकों को ऐसे कार्य करने के लिए भी प्रोत्साहित करते हैं जो राष्ट्र-हित की दृष्टि से घातक होते हैं। राजनीतिक दलों का नेतृत्व प्रायः ऐसे लोगों के हाथों में आ जाते है जो कुशल वक्ता होते हैं, झूठ बोलने की कला में बहुत निपुण होते हैं तथा सर्वसाधारण जनता के सामने सुनहरी तस्वीर प्रस्तुत करने में पारंगत होते हैं। जिन देशों में बहुत सारे राजनीतिक दल हैं; जैसे—फ्रांस व इटली, वहाँ तो किसी भी दल के लिए काम चलाने लायक बहुमत प्राप्त कर सकना बहुत कठिन कार्य है। फलस्वरूप, सरकारें बनती और गिरती रहती हैं।।

लोकतन्त्र में राजनीतिक दलों की भूमिका | The role of Political Parties in Democracy | Loktantra Me Rajnitik Dalon Ki Bhumika

दबाव गुटों (Pressure Groups) के कारण भी राजनीति बहुत अधिक विकृत हो गयी है। बड़े-बड़े औद्योगिक संस्थानों ने कुछ ऐसे कुशल, बुद्धिमान और चालू व्यक्ति नियुक्त किये हुए हैं जो संसद-सदस्यों और उच्चाधिकारियों से निरन्तर सम्पर्क बनाये रखते हैं। इन व्यक्तियों का उद्देश्य सरकारी निर्णयों को प्रभावित करना होता है, ताकि उनके मालिकों के हितों की रक्षा होती रहे। अमेरिका की राजनीति में राष्ट्रपति के बाद यदि कोई सबसे अधिक महत्वपूर्ण व्यक्ति है तो वह सीनेटर (संसद के उच्च सदन ‘सीनेट’ का सदस्य) है। दबाव गुटों के एजेण्ट सदैव सीनेटरों के चारों ओर चक्कर लगाते रहते हैं। पूँजीपति और औद्योगिक संस्थाओं के मालिक इन लोगों द्वारा संसद-सदस्यों और उच्चाधिकारयों को भ्रष्ट करने का प्रयास करते रहते हैं। वाटरगेट जैसे काण्ड इस बात का प्रमाण हैं कि न तो दलबन्दी ही भ्रष्टाचार से मुक्त है और न दबाव गुटों की गतिविधियाँ ही भ्रष्टाचार से पृथक् हैं।

प्रायः इस तरह की शिकायतें सुनने को मिलती हैं कि कम्पनियाँ और औद्योगिक संस्थान आय-कर व बिक्री-कर बचाने के लिए प्रशासनिक अधिकारियों से साँठ-गाँठ कर लेते हैं। ब्रिटेन और फ्रांस में अनेक ऐसे औद्योगिक घराने हैं जिनके कर्मचारी मन्त्रियों से नियमित सम्पर्क बनाये रखते हैं। उनका उद्देश्य यह रहता है कि ऐसे उद्योग-व्यवसायों को नुकसान न पहुँचे जिनमें उनके मालिकों की पूँजी लगी हुई है। सरकारी विभागों में दबावव-गुटों की घुसपैठ ने राजनीति को भ्रष्ट कर दिया है।

The premier library of general studies, current affairs, educational news with also competitive examination related syllabus.

Related Posts

# अरस्तू के क्रान्ति संबंधी विचार क्या हैं? | अरस्तू का क्रांति सिद्धांत | Aristotle’s Revolutionary Thoughts

अरस्तू के क्रान्ति सम्बन्धी विचार : अरस्तू ने अपनी पुस्तक ‘पॉलिटिक्स‘ के सातवें भाग में राज्य क्रान्ति और संविधान परिवर्तन सम्बन्धी बातों की विवेचना की है। उसने…

# राज्य के कार्यों का फासीवादी सिद्धांत, विशेषताएं, राज्य के कार्य एवं आलोचनाएं | Rajya Ke Fashivadi Siddhant

राज्य के कार्यों का फासीवादी सिद्धांत : राज्य के फासीवादी कार्यों का संबंध उस विशिष्ट विचारधारा से है जिसका उदय इटली (Italy) में हुआ था। फासीवाद इटैलियन भाषा…

# राज्य के कार्यों का उदारवादी सिद्धान्त | उदारवादी राज्य के उद्देश्य एवं कार्य | Rajya Ke Udarvadi Siddhant

राज्य के कार्यों का उदारवादी सिद्धान्त : उदारवादी विचारधारा एक निश्चित एवं क्रमबद्ध विचारधारा नहीं है, वास्तव में यह कोई एक दर्शन नहीं वरन् अधिक विचारों का…

# विकासशील देशों की प्रमुख समस्याएं एवं निवारण के उपाय | Vikas-shil Deshon Ki Pramukh Samasya Aur Upay

विकासशील देशों की प्रमुख समस्याएं : विकास का लक्ष्य रखकर अनेक देश अनेक प्रकार के प्रयास कर रहे हैं और इसलिए उन्हें विकासशील देश कहते हैं जिनमें…

# जनसंख्या का पर्यावरण पर प्रभाव | जनसंख्या एवं पर्यावरण में सम्बन्ध | Effect of Population on Environment

जनसंख्या का पर्यावरण पर प्रभाव बढ़ती हुई जनसंख्या का प्रभाव पर्यावरण अवनयन के रूप में दृष्टिगोचर होने लगा है। जनसंख्या की वृद्धि के कारण जल, वायु, ध्वनि…

# भारत में बढ़ती जनसंख्या के कारण | जनसंख्या नियन्त्रण के उपाय | Reasons of Population Growth in India in Hindi

भारत में बढ़ती जनसंख्या के कारण : किसी देश के आर्थिक एवं सामाजिक विकास में वहाँ की जनसंख्या या जनशक्ति का पर्याप्त योगदान होता है, किन्तु यह…

Leave a Reply

Your email address will not be published.

20 − one =