# पारिस्थितिक अनुक्रमण की प्रक्रिया को समझाइए | Ecological Succession in Hindi

पारिस्थितिक अनुक्रमण :

यदि हम किसी स्थान या जगह का समय-समय पर सूक्ष्मता या गहराई से अध्ययन करें तो हमें ज्ञात होगा कि वहाँ की वनस्पति के संगठन में परिवर्तन होता रहता है। कुछ नई जातियाँ दिखाई देती हैं और कुछ जातियाँ लुप्त हो जाती हैं। इस तरह वनस्पतियों का संगठन दूसरे वनस्पतियों के संगठन में बदल जाता है।

प्रत्येक जैविक समुदाय का अपना विकास होता रहता है। एक ही स्थान पर हो रहे एक दिशीय परिवर्तनों या दीर्घकालीन एक दिशीय समुदाय के परिवर्तन को ही ‘पारिस्थितिक अनुक्रमण‘ (Ecological succession) कहते हैं।

पारिस्थितिक अनुक्रमण की प्रक्रिया को समझाइए | Ecological Succession in Hindi | Paristhitik Anukraman Ki Prakriya

काउल्स (1900), क्लीमेट्स (1918) ने अपने-अपने तरीके से ‘पारिस्थितिक अनुक्रमण‘ को परिभाषित किया परन्तु सर्वप्रथम अनुक्रमण को स्वीडन के ‘हुल्ट’ (1885) ने बताया। अनुक्रमण समुदाय, विकास की क्रमिक क्रिया है जिसमें समय के अनुसार जातियाँ की रचनायें भी परिवर्तित होती रहती हैं।

अनुक्रमण (succession) को निम्न प्रकार में विभक्त किया जा सकता है-

  1. ओटोजनिक अनुक्रमण (Autogenic succession)
  2. एलोजनिक अनुक्रमण (Allogenic succession)
  3. विचलित अनुक्रमण (Deflected succession)
  4. अभिप्रेरित अनुक्रमण (Induced succession)
  5. आटोट्राफिक अनुक्रमण (Autotrophic succession)
  6. हेटरोट्राफिक अनुक्रमण (Heterotrphic succession)
  7. प्राथमिक अनुक्रमण (Primary succession)
  8. द्वितीयक अनुक्रमण (Secondary succession)।

अनुक्रमण के लक्षण :

  1. यह एक सुव्यवस्थित प्रक्रिया है।
  2. यह अन्त में चरम समुदाय (Climax community) पर पहुँचती है।
  3. यह वातावरण (Atmosphere) पर निर्भर रहती है।
  4. समान मौसम में समान समुदायों की उत्पत्ति करती है।
  5. अन्त में स्थायी समुदाय को बनाती है।
  6. यह एक जैविक प्रक्रिया है।
  7. यह एक दिशीय (unidirectional) प्रक्रिया है।

अनुक्रमण के कारक :

  1. प्रवास (Migration),
  2. आस्थापन (Ecesis),
  3. नग्नीकरण (Nudation),
  4. समूहन (Aggregation),
  5. आगमन (Invasion),
  6. मृदा अपरदन (Soil erosion),
  7. जमाव (Deposition),
  8. जलवायवीय क्रियायें (Climatic process),
  9. जैविक कारक (Biotic factors)।

अनुक्रमण के प्रकार :

अनुक्रमण का प्रकार उस स्थान से सम्बन्धित रहता है जहाँ से वह प्रारम्भ होता है। जैसे जहाँ पानी अधिक हो तो उसे जलक्रमक (hydrosere) कहते हैं। जहाँ पानी की कमी हो उसे मरुक्रम (xerosere) कहते हैं।

पारिस्थितिकी अनुक्रमण के सिद्धान्त :

(1) अनुक्रमण के द्वारा पौधों तथा जन्तुओं की किस्मों में निरन्तर परिवर्तन होता जाता है। प्रारम्भ में जो जातियाँ प्रमुख होती हैं, वे चरमावस्था में गौण अथवा विलुप्त हो जाती हैं।

(2) अनुक्रमण के दौरान जैव पुंज तथा जैव पदार्थों की खड़ी फसल में वृद्धि होती जाती है।

(3) जैवीय संरचना में परिवर्तन तथा उनकी मात्रा में वृद्धि के कारण जीवों की जातियाँ (Species) में परिवर्तन होता जाता है।

(4) अनुक्रमण की प्रगति के अनुसार जातियों में विविधता बढ़ती जाती है। विशेषकर परपोषी जीवों में अधिक विविधता आती है।

(5) अनुक्रमण की प्रगति के साथ जीव समुदाय के शुद्ध उत्पादन में कमी हो जाती है अर्थात् कुल जीव समुदाय से उत्पन्न जैव पुंज की मात्रा घट जाती है। जीव समुदाय अधिक ऊर्जा का उपभोग करता है।

(6) समुदाय में जीवों पर प्राकृतिक चयन (Natural Selection) का प्रभाव बढ़ता जाता है। इसका तात्पर्य यह है कि जैसे-जैसे पारितन्त्र स्थिर सन्तुलन की ओर अग्रसर होता है प्राणियों की संख्या घटती जाती है। जो जीव बदली हुई पारिस्थितिकी से अनुकूलन नहीं कर पाते वे नष्ट हो जाते हैं।

(7) साम्यावस्था (Steady State) में पारितन्त्र में प्रति इकाई ऊर्जा के उपभोग से अधिकतम जैव पुंज का पोषण होता है।

(8) सामान्य जलवायु वाले निवास (Habitat) में चरमावस्था में सभी पूर्ववर्ती से समाहित हो जाते हैं। जैव संरचना, स्पीशीज, समूह एवं उत्पादकता में स्थायित्व आ जाता है । इस स्थिति में सभी जातियाँ पुनरुत्पादन करती हैं।

(9) तब किसी नई स्पीशीज के समुदाय में प्रविष्ट होने के प्रमाण नहीं मिलते।

यदि मनुष्य पारितन्त्र से अपने भोजन या अन्य जैविक पदार्थों की पूर्ति चाहता है तो उसके लिए चरम अवस्था के पूर्व की दशाएँ अधिक उपयोगी हैं। चरमावस्था आने पर शुद्ध उत्पादन शून्य हो जाता है।

The premier library of general studies, current affairs, educational news with also competitive examination related syllabus.

Related Posts

# अनुसूचित जाति का क्या मतलब है? | Anusuchit Jati Kise Kahte Hai?

भारतीय समाज में अनेक प्रकार की सामाजिक, आर्थिक, असमानताएँ प्राचीन काल से व्याप्त रही हैं, इनमें सर्वाधिक निम्नस्तरीय असमानताएँ वर्ण व्यवस्था पर आधारित रही है। हिन्दू समाज…

# “राज्य का आधार इच्छा है, शक्ति नहीं” इस कथन की व्याख्या कीजिए

राज्य का आधार इच्छा है शक्ति नहीं : “The basis of the state is will, not power.” – T.H. Green व्यक्तिवादी, साम्यवादी, अराजकतावादी राज्य को मात्र शक्ति…

# नीति निदेशक सिद्धान्त : संवैधानिक स्थिति – एक विश्लेषण

संवैधानिक स्थिति – एक विश्लेषण : “राज्य के नीति निदेशक सिद्धान्त यद्यपि कोई वैधानिक आधार प्रदान नहीं करते और न ही संवैधानिक उपचार देते हैं, मात्र सुझाव…

मानव अधिकारों की सार्वभौमिक घोषणा

# मैकियावेली को आधुनिक राजनीतिक विचारक क्यों कहा जाता है? आलोचनात्मक व्याख्या कीजिए | Aadhunik Rajnitik Vichark

आधुनिक राजनीतिक विचारक : मैकियावेली राजनीतिक दर्शन में मैकियावेली को “अपने युग का शिशु” कहने के साथ-साथ “आधुनिक युग का जनक” भी कहा जाता है। मैकियावेली धार्मिक…

राज्य नीति के निदेशक सिद्धांत | Directive Principles of State Policy

# कार्ल मार्क्स के अतिरिक्त मूल्य सिद्धान्त | Karl Marx’s Theory of Surplus Value

कार्ल मार्क्स के “अतिरिक्त मूल्य के सिद्धान्त” : कार्ल मार्क्स के सामान्य दर्शन पर उसके विचारों को चार वर्गों में विभक्त किया जा सकता है- द्वन्द्वात्मक भौतिकवाद,…

# प्राकृतिक संसाधन : प्रकार/वर्गीकरण, महत्व, संरक्षण व भूमिका | Natural Resources In Hindi

प्राकृतिक संसाधन (Natural Resources) : वन्य जीवधारियों की भाँति मानव भी प्राकृतिक तन्त्र का एक साधारण सदस्य है और जीवन-यापन के लिए विभिन्न प्राकृतिक संसाधनों पर निर्भर रहता है।…

Leave a Reply

Your email address will not be published.

3 + twelve =