# राज्य की उत्पत्ति के मार्क्सवादी सिद्धांत की व्याख्या | Marxist Theory of the Origin of the State

राज्य की उत्पत्ति के मार्क्सवादी अवधारणा/सिद्धांत : इस सिद्धांत का जन्मदाता महान विचारक कार्ल मार्क्स माना जाता है। मार्क्स के विचार राज्य की…

# अरस्तू के क्रान्ति संबंधी विचार क्या हैं? | अरस्तू का क्रांति सिद्धांत | Aristotle’s Revolutionary Thoughts

अरस्तू के क्रान्ति सम्बन्धी विचार : अरस्तू ने अपनी पुस्तक ‘पॉलिटिक्स‘ के सातवें भाग में राज्य क्रान्ति और संविधान परिवर्तन सम्बन्धी बातों की…

# राज्य के कार्यों का फासीवादी सिद्धांत, विशेषताएं, राज्य के कार्य एवं आलोचनाएं | Rajya Ke Fashivadi Siddhant

राज्य के कार्यों का फासीवादी सिद्धांत : राज्य के फासीवादी कार्यों का संबंध उस विशिष्ट विचारधारा से है जिसका उदय इटली (Italy) में हुआ…

# राज्य के कार्यों का उदारवादी सिद्धान्त | उदारवादी राज्य के उद्देश्य एवं कार्य | Rajya Ke Udarvadi Siddhant

राज्य के कार्यों का उदारवादी सिद्धान्त : उदारवादी विचारधारा एक निश्चित एवं क्रमबद्ध विचारधारा नहीं है, वास्तव में यह कोई एक दर्शन नहीं…

# विकासशील देशों की प्रमुख समस्याएं एवं निवारण के उपाय | Vikas-shil Deshon Ki Pramukh Samasya Aur Upay

विकासशील देशों की प्रमुख समस्याएं : विकास का लक्ष्य रखकर अनेक देश अनेक प्रकार के प्रयास कर रहे हैं और इसलिए उन्हें विकासशील…

# जनसंख्या का पर्यावरण पर प्रभाव | जनसंख्या एवं पर्यावरण में सम्बन्ध | Effect of Population on Environment

जनसंख्या का पर्यावरण पर प्रभाव बढ़ती हुई जनसंख्या का प्रभाव पर्यावरण अवनयन के रूप में दृष्टिगोचर होने लगा है। जनसंख्या की वृद्धि के…

# भारत में बढ़ती जनसंख्या के कारण | जनसंख्या नियन्त्रण के उपाय | Reasons of Population Growth in India in Hindi

भारत में बढ़ती जनसंख्या के कारण : किसी देश के आर्थिक एवं सामाजिक विकास में वहाँ की जनसंख्या या जनशक्ति का पर्याप्त योगदान…

# धारणीय (सतत्) विकास क्या है? | Indicators of Sustainable Development

धारणीय (सतत्) विकास : धारणीय विकास से तात्पर्य ऐसे विकास से है, जो वर्तमान की जरूरतों को पूरा करते हुए भी भविष्य की…

# लोक-कल्याणकारी राज्य : अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं, प्रमुख कार्य, आलोचनाएं | Lok Kalyankari Rajya

लोक-कल्याणकारी राज्य का अर्थ : लोक-कल्याणकारी राज्य का तात्पर्य अपनी सम्पूर्ण जनता का सर्वांगीण विकास करना तथा लोकहित करना है। लोकहित से तात्पर्य…

# न्याय का स्वतन्त्रता तथा समानता से सम्बन्ध | The Relationship of Justice to Liberty And Equality

न्याय का स्वतन्त्रता तथा समानता से सम्बन्ध : न्याय का स्वतन्त्रता तथा समानता से प्रगाढ़ सम्बन्ध है। कभी-कभी तो ऐसा प्रतीत होता है…