# छत्तीसगढ़ के 36 गढ़/36 किला | छत्तीसगढ़ इतिहास | 36 Gadh Of Chhattisgarh

अधिक़ांश इतिहासकारों का मत है कि कल्चुरियों ने 36 किले या कई गांवों को मिलाकर गढ़ बनाए थे। जिनमें 18 गढ़ शिवनाथ नदी के उत्तरी क्षेत्र में रतनपुर शाख़ा के अंतर्गत और दक्षिणी क्षेत्र में रायपुर शाख़ा के अंतर्गत 18 गढ़ शामिल थे।

उस समय 84 गांवों के समूह को एक गढ़ कहते थे. तब इस क्षेत्र में तकरीबन 3025 गांव थे। गढ़ इनके प्रादेशिक इकाई का मुख्यालय होता था। जहां से क्षेत्रीय जनता पर नियंत्रण रखा जाता था। गढ़ के प्रमुख को गढ़पति या दीवान कहा जाता था। दीवान पर केवल राजा का नियंत्रण होता था।

इन गढ़ों की सूचियां चिजम और हैविट द्वारा लिखी गई रिपोर्ट में दी गई है।

छत्तीसगढ़ के 36 गढ़/36 किला के नाम :

रतनपुर शाखा के 18 गढ़रायपुर शाखा के 18 गढ़
01. रतनपुर01. रायपुर
02. उपरोड़ा02. पाटन
03. मारो03. सिमगा
04. विजयपुर04. सिंगारपुर
05. खरौद05. लवन
06. कोटगढ़06. ओमेरा
07. नवागढ़07. दुर्ग
08. सोढ़ीगढ़08. सारधा
09. ओखर09. सिरसा
10. पंडराभट्ठा10. मोहदी
11. सेमरिया11. खल्लारी
12. मदनपुर12. सिरपुर
13. कोसगई13. फिंगेश्वर
14. करकट्टी14. सुअरमाल
15. लाफा15. राजिम
16. केंदा16. सिंगारगढ़
17. मातिन गढ़17. टेंगनागढ़
18. पेण्ड्रा18. अकलवाड़ा

Leave a Comment

one × 1 =